हिंदी सौरभ |

कहावतें |
१)जिसकी  लाठी उसकी भैंस |
(भैंस का माली वह है, जिसकी
लाठी मज़बूत है |)
२)बोया पेड़ बबूल का, आम कहाँ
से होय ?
३)सहज पके, सो मीठा होय;
गर्म खाने से मुँह जलेगा और
स्वाद भी बिगड़ेगा |
चिंतन |
यादें –कुछ आते हैं यहाँ , बस
आकर यूँ हीं चले जाने के लिए |
उनका आना और आकर चले जाना
कोई ख़बर नहीं रखता |
कुछ आतें हैं यहाँ , रहके चले जातें हैं,
ऐसे कि उन्हें याद करना भी उचित  नहीं
समझता है ज़माना |
कुछ के यहाँ आने से पहले ही, हवा के
झोंकें आवाज़ देने लगते हैं | सच में वे  एक
शाही जीवन जीते हैं ; कुछ गुणों  और कुछ
अवगुणों के लिए याद किए जातें हैं |
पर कुछ  सिर्फ़ इसलिए आतें हैं कि उनके
आने से होती है एक मिसाल कायम |
और फ़िर जाने के बाद भी हर पल वे
याद आते हैं |
मूल:संग्रह .
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s