सच्चाई|

१)इन बाज़ार के युग में  सच्चे शब्दों के
कीमत नहीं
२)साँसों से नहीं, क़दमों से नहीं,ताकत से
नहीं , मोहब्बत /प्यार  से चलती है,  यह दुनियाँ |
३)जो गलती नहीं करता, वह भगवान् है|
जो गलती कभी करता, वह इनसान है|
जो गलती पर गलती  करता , फ़िर भी
नहीं मानता  वह शैतान है|
४)आसमान  जो सब से ऊँचा रहता है,
हमेशा झुकता रहता है|
५)दिल का कोई ज़बान नहीं होता|
६)हंसों का जोड़ा आखिर तक, एक दुसरे से
बिछड़ते  नहीं |
७)आसमान देख कर जो थूकता है,
वह थूक उसीके मुह पर गिर जाता है|
८)राज-नीती में मुद्दे को जिंदा रखना  पड़ता  है,
ताकि समय आने पर खोल दे |
९)बिना बदरिया,बिजुरिया (बिजली) कैसे चमके ?
१०)सब दिन एक नहीं होते सामान |
मूल:संग्रह .
Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s